Computer क्या है ? Complete Basic Knowledge of Computer with Q&A

नमस्कार दोस्तो! आज की तारीख में computer के बारे में कौन नही जनता या कौन इसे उपयोग में नही लाता, शायद ही कोई व्यक्ति होगा जो computer के बारे में न जनता या न सुना हो, दोस्तो आज हमारे जीवन का कोई भी ऐसा भाग नही है जो की computer के बिना इस्तेमाल किये बिना हो इसीलिए computer हमारे जीवन का एक अभिन्न अंग बन चूका है

और कंप्यूटर के अविष्कार ने हमारे जीवन की कठिन प्रश्नों को आसन बना दिया है हमारे काम को न सिर्फ आसन बना दिया है बल्कि इसे और तेजी से और बिना कोई गलती किये हुए भी किया जा सकता है computer की इसी उपयोगिता के कारन हमें इसका complete basic knowledge of computer होना बहुत आवश्यक है


Computer क्या है ? Basic knowledge of Computer


कंप्यूटर की परिभाषा क्या होती है? सरल भाषा में कहे तो कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक देवीचे है जो की अनुदेशो के संग्रह ( यानी Set of Instruction) के हिसाब से काम करता है जो की computer की मेमोरी में ही सुरक्षित होते है  ये instruction computer को बताते है की उसको क्या करना है set of instructions को computer program भी कहते है

कंप्यूटर शब्द की उत्पत्ति लेटिन के compute सब्द से मणि जाती है जिसका तात्पर्य गाड़ना करना होता है, यह एक ऐसा यन्त्र है जो काफी तेज गति से गाड़ना करने के लिए जाना जाता है इसका उपयोग यांत्रिकी, अनुसन्धान और शोध में किया जाता है


कंप्यूटर का Full form क्या है?

वैसे तो computer के बहुत से फुल form होते है जो आप अपनी सुविधा के अनुसार याद रख सकते है और ये सरे सही मने जाते है –

  • C – Common
  • O – Operating
  • M – Machine
  • P – Porposely
  • U – Used for
  • T – Technology and
  • E – Education
  • R – Research


कंप्यूटर किस प्रकार से काम करता है?

computer मुख्य रूप से 3 प्रकार से काम करता है –

Computer क्या है ? Complete Basic Knowledge of Computer with Q&A
  • Input – computer को हमारे द्वारा इनपुट डिवाइस की मदत से instruction दिए जाते है जिनके आधार पर वह काम करता है जैसे की कीबोर्ड, स्कैनर आदि
  • Processing– हमारे द्वारा दिए गये इनपुट के आधार पर कंप्यूटर Arithmatically और लॉजिकल गाड़ना करता है दोस्तो हमारी और computer की भाषा बिलकुल अलग अलग होती है computer की भाषा को कंप्यूटर लैंग्वेज कहते है यह 0 और 1 की फॉर्म में होते है जैसे – 11001110 , इसी को समझने की प्रक्रिया प्रोसेसिंग कहलाती है
  • Output– computer द्वारा प्रोसेस किये गए डाटा को हमें दिखने या प्रिंट करने की प्रक्रिया आउटपुट कहलाती है हमें यह आउटपुट computer की मॉनिटर या प्रिंटर के माध्यम से प्रिंट करके प्राप्त हो जाती है इस डाटा को computer अपने इंटरनल मेमोरी में सुरक्षित रख लेता है जिससे की इसका इस्तेमाल भविष्य में किया जा सके


कंप्यूटर की पीढ़िया (Generations of Computer) 


कंप्यूटर डिवाइस की नई खोजो के हिसाब से computer को भी विभिन्न पीढियों(Generations) में बता गया है जिस प्रकार से computer का विकास हुआ है टेक्नोलॉजी में भी उसी तेजी से विकास हुए है, computer के ऑपरेटिंग प्रोसीजर में बदलाव आये है, तथा कंप्यूटर और अधिक छोटा, पावरफुल, कुशल, और विश्वशनीय हो गया है

  • प्रथम पीढ़ी (First Genration – 1940 to 1956) – कंप्यूटर की प्रथम पढ़ी Vaccume Tubes की टेक्नोलॉजी पर आधारित थी तथा मेमोरी के लिए चुम्बकीय ड्रम का इस्तेमाल किया जाता था ये computer साइज़ में बहुत बड़े होते थे जो एक बड़े कमरे तक की जगह लेते थे और इनका इस्तेमाल करना बहुत कठिन होता था और ये बहुत महंगे भी होते थे, इन computer मशीन भाषा का प्रयोग करते थे तथा एक समय में एक ही गाड़ना कर सकने में सक्षम थे इनमे इनपुट के लिए पंच कार्ड, पेपर टेप आदि तथा आउटपुट के लिए प्रिंटआउट का इस्तेमाल होता था, इस पीढ़ी के computer इस प्रकार है – एनियाक (ENIAC), एड्सैक (EDSAC), युनिवैक- (UNIVAC), IMB-701, IBM-650, MARK-2, MARK-3
  • द्वितीय पीढ़ी (Second Generation 1956-1963) – इस पढ़ी के कंप्यूटरों में transistors ने vaccume tubes को बदल दिया था, ट्रांजिस्टर का अविष्कार Willon Shockly ने 1947 में किया था इसके अविष्कार ने computer को और अधिक लाभ पहुचाया, ये और छोटे, तेज और सस्ते हो गए, इसमें मशीन लैंग्वेज की जगह असेम्बली लैंग्वेज का प्रयोग किया गया जिसमे computer को वर्ड्स के form में instruction दिए जा सकते थे इसी समय में High-Level Programming Language का भी प्रयोग हुआ जैसे COBOL और FORTRON, मैग्नेटिक ड्रम की जगह मैग्नेटिक कोर मेमोरी का इस्तेमाल किया गया, IBM-1401 इस समय का प्रमुख computer था और computer इस पीढ़ी के -IBM-1602, IBM-7094, CDS-3600, RCA-501, UNIVEC-1107 आदि
  • तीसरी पीढ़ी (Third Generation 1964 – 1971) – इस पीढ़ी के computer में Integrated Circuit (IC) का प्रयोग किया गया, IC का अविष्कार 1958 में Jack Kibly ने किया था, IC में SSI यानि SmallScale Integration का प्रयोग होता है High Level Programming Language का प्रयोग किया जाता है इस पीढ़ी के computer में Multi-Tasking यानि Multi-program और Multi-Processing संभव हो पाया, Semiconductors के प्रयोग ने Speed और Accuracy और बाधा दिया, लोगो द्वारा computer का इस्तेमाल इसी पीढ़ी से start हुआ क्यों की इसके पहले computer बहुत महंगे होते थे IBM-360, IBM-370, ICL-1900, बेरोज – 5700, 6700, 7700 , CDC 3000-6000, UNIVEC-9000, हनीवेल – 6000 और 200 PDP-11/45 आदि इस पीढ़ी के कुछ प्रमुख computer थे 
  • चौथी पीढ़ी (Fourth Generation 1971-1989) – इसमें IC का improved VLSI (Very Large-Scale Integration) का प्रयोग किया गया, इसमें माइक्रो-प्रोसेसर टेक्नोलॉजी का प्रयोग किया गया, इस टेक्नोलॉजी में एक सिलिकॉन चिप पर computer के सरे सर्किट को लगाया जाता है जिससे computer को माइक्रो computer में बदला जा सकता है
  • पाचवी पीढ़ी (Fifth Generation Present एंड Beyond) – इस पीढ़ी में IC की नई टेक्नोलॉजी ULSI ( Ultra Large Scale Integration) का उपयोग होने लगा, इसमें High Level Programming Language का जो और भ आसन है उसका इस्तेमाल होने लगा , भाषा का GUI (Graphical User Interface) के रूप में उसे होने लगा, इस पीढ़ी के computer devices AI ( Artificial Intelligence) का उपयोग बड़ी मात्र में हो रहा है, यह एक ऐसे टेक्नोलॉजी है जिसमे computer खुद ही सोच समझ कर काम कर लेता है जैसे की रोबोट्स आदि.


एप्लीकेशन पर आधारित कंप्यूटर के प्रकार 

computer को हम जिस प्रकार या जिस फॉर्म में उसे करते है वह इसका एप्लीकेशन कहलाता है आईये जानते है इसके बारे में –

  • एनालॉग कंप्यूटर – भौतिक मत्राए नापने या measure करने के लिए इस प्रकार के computer का इस्तेमाल किया जाता है इसका इस्तेमाल विज्ञान और शोध के क्षेत्र में अधिक हिता है
  • डिजिटल कंप्यूटर – सभी पर्सनल उपयोग में आने वाले कंप्यूटर डिजिटल कंप्यूटर कहलाते है
  • हाइब्रिड कंप्यूटर – इस प्रकार का computer एनालॉग और डिजिटल computer का मिश्रण होता है इसमें गड़ना करना और भौतिक मात्राओ को नापना दोनों प्रकार का काम लिया जा सकता है


कंप्यूटर हमारे जीवन में कैसे उपयोगी है?

कंप्यूटर का उपयोग की बात करे तो यह हर समय और हर जगह हमरे साथ मौजूद है जैसे की आप यह लेख पढ़ रहे है तो आप किसी न किसी प्रकार के computer का ही इस्तेमाल कर रहे होंगे जैसे मोबाइल फोन या लैपटॉप, डेस्कटॉप आदि

  • computer का इस्तेमाल हम अपने बिज़नस में करते है हम अपने बिज़नस का सभी प्रकार का डाटा और जानकारी को कंप्यूटर पर ही सुरक्षित रखते है , यहा तक की बिज़नस की इन्वेंटरी से लेकर, अपने कस्टमर का सारा डाटा और पेमेंट के transaction आदि को हम computer के माध्यम से आसानी से सुरक्षित रखते है
  • computer का हमारे पर्सनल जीवन में भी बहुत उपयोग है जैसे हम अपने घरो में ही AC और TV का रिमोट उसे करते है वो भी एक प्रकार का computer ही होता हैहम CCTV कैमरे और सिक्यूरिटी सिस्टम का इस्तेमाल करने के लिओये computer का ही यूज़ करते है
  • हमारे ऑटो मोबाइल में भी बहुत से computer देवीचे लगे होते है जैसे की म्यूजिक सिस्टम, रिमोट सिस्टम जो एक प्रकार का computer ही है हम मनोरंजन के लिए  भी कंप्यूटर का इस्तेमाल करते है जैसे हमारा स्मर्त्फोने भी एक तरह का computer है
  • मनोरंजन के अलवा शिक्षा में भी computer का बहुत अधिक उपयोगी है computer हमें पढाई में जोड़ घटाव के साथ एडवांस मैथमतिक्स में भी बहुत उपयोगी है वैज्ञानिक शोध के लिए computer का उपयोग होता है हमें देश की जल , थल और वायु सेना भी computer का ही इस्तेमाल करके तोप और हवाई जहाज को कंट्रोल किया जाता है


क्षमता के आधार पर computer कितने प्रकार का होता है?

कंप्यूटर की क्षमता का मतलब होता है की इसकी गड़ना की क्षमता कितनी है और यह एक सेकंड में कितनी गणनाए कर सकता है कंप्यूटर की क्षमता के कुछ आधार है जैसे – प्रोसेसर, मेमोरी, RAM (Random Access Memory), चिपसेट, मदरबोर्ड आदि ऐसे कुछ घटक है जो कंप्यूटर की क्षमता को घटा बाधा सकते है

  • General Purpose computer – सामान्य कार्य करने के लिए इस प्रकार के कंप्यूटर का उपयोग किया जाता है जैसे हमारे घरो में , ऑफिस में और दुकानों पर. पर्सनल कंप्यूटर, लैपटॉप, स्मार्टफोन आदि जनरल पर्पस के कंप्यूटर होते है
  • Special Purpose computer – विशेष कार्य के लिए उपयोग होने वाले computer जिनका प्रयोग मौसम विज्ञान, कृषि विज्ञान, युद्ध, अंतरिक्ष और शोध कार्यो के लोए होता है स्पेशल पर्पस कंप्यूटर कहलाते है


आकार और कार्य के आधार पर computer कितने प्रकार का होता है?

  • माइक्रो कंप्यूटर – इस प्रकार के कंप्यूटर आकार में छोटे और पोर्टेबल होते है जिसे आसानी से    कही भी और कैसे भी यूज़ किया जा सकता है इन कंप्यूटर में माइक्रो प्रोसेसर का उसे होता है इन्हें PC या पर्सनल कंप्यूटर भी कहते है इस प्रकार के computer है – Desktop Computer, Laptop Computer, Palmtop Computer, NoteBook Computer और Tablet computer माइक्रो कंप्यूटर के कुछ प्रकार है.

    • Desktop Computer – इस प्रकार के computer generally हमरे द्वारा अपने डेली पर्पस के कामो के लिए यूज़ किया जाता है यह अलग अलग डिवाइस का कलेक्शन होता है जैसे – मॉनिटर, CPU, कीबोर्ड, माउस, यूपीएस आदि
    • लैपटॉप कंप्यूटर – इस प्रकार के कंप्यूटर आकर में डेस्कटॉप कंप्यूटर से आकार में बहुत छोटे होते है और इसे कही भी आसानी से ले जाया जा सकता है यह डेस्कटॉप कंप्यूटर की तरह अलग अलग डिवाइस से मिलकर नही बना होता बल्कि खुद में एक सम्पूर्ण डिवाइस हिता है 
    • Palmtop कंप्यूटर – इस प्रकार के computer लैपटॉप के आकर में और छोटे होते है तथा इनकी कार्यक्षमता इससे कम होती है इसको हाथ में पकड़ कर आसानी से चलाया जा सकता है यह smartphone से थोड़े बड़े होते है और कार्य प्रणाली लगभग smartphone की तरह ही होती है
    • नोटबुक computer – लैपटॉप कंप्यूटर की तरह ही होते है इसी का एक प्रकार होता है
    • टेबलेट कंप्यूटर – ये मोबाइल से थोड़े बड़े होते है और टच स्क्रीन वाले होते है   

  • वर्कस्टेशन/ सर्वर कंप्यूटर – ये कंप्यूटर बिज़नस में उपयोग किये जाते है और ये सर्वर की तरह यूज़ होते है, इनकी कार्य करने की क्षमता माइक्रो कंप्यूटर से अधिक होती है
  • मिनी कंप्यूटर – इस प्रकार के computer बड़ी कंपनियों या सरकारी ऑफिस में सर्वर computer के कार्य के लिए होता है डिजिटल इक्विपमेंट कारपोरेशन द्वारा १९५६ में सबसे पहला मिनी सिम्पुटर तैयार किया गया था जिसका नाम है PDP -8 फर्स्ट मिनी कंप्यूटर.
  • मेनफ़्रेम कंप्यूटर – इनका उपयोग बड़ी बड़ी कंपनियों और सरकारी ऑफिस में सर्वर कंप्यूटर के रूप में किया जाता है ये छोटे छोटे फ्रेम से बने होते है इन कंप्यूटर का प्रयोग माइक्रो computer की तरह किया जाता है कुछ मेनफ़्रेम computer निम्न है – IBM-4381 , ICL-39, CDC Cyber etc.
  • सुपर कंप्यूटर – ये विशेष प्रकार के कंप्यूटर होते है ये computer स्पेशल पर्पस के लिए तैयार किये जाते है जिनका उपयोग आम लोगो द्वरा नही किया जाता और ये काफी महंगे भी होते है, इनकी गणना करने की क्षमता बहुत ही अधिक होती है, भारत का पहला सुपर computer परम है, तथा नवीनतम परम-10000 है, वर्ल्ड का सुपर कंप्यूटर Gay-1 है, जिसका निर्माण CDAC द्वारा किया गया है, इन कंप्यूटर का प्रमुख उपयोग निम्न प्रकार से है – अंतरिक्ष की खोज और यात्रा के लिए, मौसम विज्ञान की जानकारी के लिए अंतरिक्ष में sattelite से डाटा कैप्चर करने के लिए, युद्ध के समय भारतीय सेना द्वारा सुपर computer का इस्तेमाल किया जाता है.

Conclusion

दोस्तो में ये आशा करता हु की उपरोक्त दी गयी जानकारी  Complete Basic Knowledge of Computer के बारे में आपको समझ में आ गया होगा और आपको और कही से जाकर जानकारी लेने की जरुरत नही पड़ेगी फिर भी यदि आपको लगता है की कोई जानकारी इसमें आपको नही मिल पाई है या छुट गयी है तो कृपया कमेंट करके हमें जरुर बताये और आपको यह लेख कैसा लगा यह भी कमेंट बॉक्स में जरुर बताये आपके सहयोग से हमें मोटिवेशन मिलता है और हम और भी अधिक क्वालिटी content प्रोवाइड करने के लिए प्रेरित होते है अगर आपके कोई सवाल या सुझाव है तो हमें ईमेल के माध्यम से भी आप संपर्क कर सकते है, इसके अलावा आप हमारे फेसबुक पेज और फेसबुक ग्रुप से जुड़कर और भी जानकारी प्राप्त कर सकते है जो समय समय पर हमरे द्वारा आपको दी जाती है और दी जाती रहेगी.

1 thought on “Computer क्या है ? Complete Basic Knowledge of Computer with Q&A”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top