जाने ट्रेन को हिंदी में क्या कहते हैं? | Train in Hindi Name

आप में से बहुत से लोगों ने ट्रेन से यात्रा तो जरूर की होगी लेकिन क्या आप लोगों को पता है कि ट्रेन को हिंदी में क्या कहते हैं यानी कि Train in Hindi Name क्या है? हम लोग भारतीय हैं और भारत की मातृभाषा हिंदी है और इसीलिए हम लोग बहुत से शब्दों का मतलब हिंदी में भी जानना चाहते हैं।

आज की इस आर्टिकल में आपको ट्रेन को हिंदी में क्या कहते हैं या फिर ट्रेन का हिंदी में नाम क्या है तो पता चलेगा ही साथ ही साथ आप लोगों को भारतीय ट्रेन का इतिहास भी पता चलेगा कि पहले किस तरह से ट्रेन को चलाया जाता था और किस तरह से रेल नेटवर्क का विकास भारत में हुआ?

ट्रेन को हिन्दी में क्या कहते हैं, train in hindi name
ट्रेन को हिन्दी में क्या कहते हैं, train in hindi name

भारतीय रेल का इतिहास

किसी भी चीज का इतिहास तो बहुत ही बड़ा होता है जो कि एक छोटे से आर्टिकल में नहीं आ सकता। लेकिन हां, आपको उससे जुड़ी हुई कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां इस आर्टिकल में जरूर देखने को मिलेगी तो इसके लिए आप इस आर्टिकल को अच्छे से पढ़ ले उसके बाद आपको पता चल जाएगा कि ट्रेन को हिंदी में क्या कहते हैं?

जानें क्रिकेट को हिन्दी में क्या कहते हैं? | Cricket in hindi name

दुनिया में सबसे व्यापक नेटवर्क में से एक भारतीय रेलवे द्वारा उपयोग किया जाने वाला रेल नेटवर्क है। यह नेटवर्क महानगरीय भारत में लगभग 65,000 किलोमीटर की परिधि को कवर करता है। यह दुनिया के सबसे बड़े रेलरोड नेटवर्क में से एक है।

कार्गो ढोने के लिए भारतीय रेलवे के पास देश में सबसे बड़ा समर्पित रेलवे नेटवर्क है। देश का 90% कोयला परिवहन ट्रेनों द्वारा किया जाता है। इस विशाल रेलवे नेटवर्क पर प्रतिदिन 21,000 उत्पाद और यात्री ट्रेनें चलती हैं। कुल मिलाकर, यात्रियों की तुलना में, कोरोना की स्थापना से पहले, हर दिन 2.50 मिलियन लोग ट्रेन से यात्रा करते हैं। वर्तमान में भारतीय रेल देश के कोने-कोने में पहुंचती है।

रेलवे लाइन का पहला पड़ाव

हम आपको बता दें कि रेलवे लाइन का पहला रन 16 अप्रैल, 1853 को हुआ था। क्लीवलैंड से ठाणे की ओर चलने वाली यह रेलवे लाइन 35 किलोमीटर तक चलती थी। ट्रेन ने सुबह 3:15 बजे 3.35 मील प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ते हुए पटरियों पर सफर किया। ट्रेन अपराह्न 4:45 बजे ठाणे पहुंची।

इंडिया का फुल फॉर्म क्या है? Full form of India in Hindi

भारत का पहला भाप इंजन 1856 के आसपास बनाया गया था, फिर रेल की पटरियों को स्थापित करना शुरू किया गया था। सबसे पहले, नैरो गेज पर रेलवे कार्यरत था, उसके बाद ब्रॉड गेज और मीटर गेज लाइन। मार्च 1969 में, भारत की पहली सुपरफास्ट ट्रेन ब्रॉड गेज लाइनों के माध्यम से दिल्ली और हावड़ा की सड़कों पर दौड़ी।

देश में सबसे तेज चलने वाली ट्रेन में 10 किलोमीटर 0-60 सेकेंड की पैसेंजर ट्रेन को मेट्टापालयम ओयटी निर्गी पैसेंजर के नाम से जाना जाता है। यह सामान्य रेलरोड गति से यात्रा करता है, जिससे ट्रेन से बचना आसान हो जाता है।

मेट्रो का आना

ट्रेन पिछले कुछ वर्षों में विभिन्न डिजाइनों में बदल गई है। T18 और मेट्रो इसके नवीनतम संस्करण हैं। T18 ट्रेन एक अमेरिकी रेल कार है जो बिना ड्राइवर के रहती है। रेलमार्ग के आविष्कार के साथ ट्रैक स्टेशनों को अद्यतित रखने की आवश्यकता है।

वित्त मंत्रालय से मिली जानकारी के अनुसार, भारतीय रेल की पटरियां 37,689 पुलों और स्टेशनों से गुजरती हैं, जिनका महत्व घंटे के हिसाब से बिगड़ जाता है। ये संरचनाएं 100 से अधिक वर्षों से सेवा में हैं। वहीं, भारत भर में रेल पुलों की संख्या 1 लाख 47 000 523 है। इसलिए, यदि प्रत्येक तीसरा पुल 100 वर्ष से अधिक पुराना है, तो प्रत्येक तीसरा पुल 100 वर्ष से अधिक पुराना है।

ट्रेन को हिंदी में क्या कहते हैं?

ट्रेन को हिंदी में “लौह पथ गामिनी” के नाम से जाना जाता है। इसके अतिरिक्त, इसे अंग्रेजी में ट्रेन के रूप में भी जाना जाता है। ट्रेन लोहे की पटरी पर चलती है, इसलिए इसे हिंदी में “लौह पथ गामिनी” कहा जाता है। “लौह पथ गामिनी” और “ट्रेन” शब्द का प्रयोग अक्सर नहीं किया जाता है, हालांकि अंग्रेजी शब्द का प्रयोग अक्सर किया जाता है।

Avatar of Hindi India Contributors

हिन्दी इंडिया वेबसाइट पर हिन्दी में जानकारीके लिए निरंतर विजिट करते रहे यह पर आपको टेक, ब्लॉग्गिंग, शायरी, कोट्स, भारत के त्यौहार आदि के बारे में जानकारी प्रकाशित की जाती है.