Old Songs: 60’s से 80’s के दशक के वे सदाबहार गाने जिन्हें आज भी सुनकर हो जाते है भावुक

दोस्तों अगर आप फ़िल्मी गानें सुनने का शौख रखते है और वो भी पुराने सदाबहार गाने तो आपको पता होगा की क्या गाने लिखे जाते थे उस ज़माने में जिन्हें आज भी हम सुन लें तो हमारे रोंगटे खड़े हो जाते है और हम बहुत अधिक भावुक भी हो जाते है.

वैसे गाने तो सभी को पसंद होते है जब भी हम खुश होते है अथवा दुखी होते है ये गाने ही हमें हमारे ख़ुशी को सेलिब्रेट करने और हमारे दुःख को भुलाने का जरिया बन जाते है हम कहीं भी हो और कैसे भी हो हमें म्यूजिक और गाने तो चाहिए ही चाहिए, मगर यदि आप भी पुराने सदाबहार भावुक कर देने वाले गानों की तलाश में है तो ये 5 गाने आपको जरुर पसंद आने वाले है.

Old Songs: 60's से 80's के दशक के वे सदाबहार गाने जिन्हें आज भी सुनकर हो जाते है भावुक
Old Songs: 60's से 80's के दशक के वे सदाबहार गाने जिन्हें आज भी सुनकर हो जाते है भावुक 1

1. ‘तुझसे नाराज़ नहीं जिंदगी’ मासूम नसीरुद्दीन शाह जुगल हंसराज

यह गाना 1983 में आई फिल्म मासूम में फिल्माया गया था जिसको मेल और फीमेल दोनों संस्करण में उपलब्ध है इसका मेल संस्करण अनूप घोशाल तथा फीमेल संस्करण लता मंगेशकर द्वारा गया गया था.

आज भी जब भी मौका मिलता है यह गाना सुनकर हमारे रोंगटे खड़े हो जाते है पुराने गानों की बात ही कुछ और थी उनका गीत लबो पर गुनगुनाना अच्छा लगता है और उनको महसूस करना हमारे मन को भावुक सा कर देता है.

गानातुझसे नाराज़ नहीं जिंदगी
फिल्ममासूम (1983)
गायकअनूप घोशाल (पुरुष) लता मगेश्कर(महिला)
अभिनेता वर्गनसीरुद्दीन शाह, शबाना आजमी, तनूजा, उर्मिला मातोंडकर, जुगल हंसराज
संगीतआर. डी. बर्मन
गीतगुलज़ार

यू-टूब पर देखें – तुझसे नाराज़ नही जिंदगी

2. ‘मेरे महबूब क़यामत होगी’ मिस्टर एक्स इन बॉम्बे किशोर कुमार

60’s के दशक का यह गाना ब्लैक एंड वाइट परदे पर फिल्माया गया था पुराने गानों के शौक़ीन इस गाने को अक्सर सुनकर भावुक हो जाते है किशोर कुमार के गाने उस ज़माने में बहुत प्रसिद्द हुआ करते थे जिन्हें सुनना एक अलग ही एहसास कराता था

गानामेरे महबूब क़यामत होगी
फिल्ममिस्टर एक्स इन (1964)
गायककिशोर कुमार
अभिनेता वर्गकिशोर कुमार, कुम कुम, मदन पूरी
संगीतलक्ष्मीकान्त- प्यारेलाल
गीतआनंद बक्शी

3. ‘मंजीले अपनी जगह है रास्ते अपनी जगह’ शराबी किशोर कुमार अमिताभ बच्चन

फिल्म शराबी(1984) का यह गाना किशोर कुमार द्वारा गया गया है और अमिताभ बच्चा के ऊपर फिल्माया गया है फिल्म में जब अमिताभ के एक दोस्त एक पार्टी में कुछ सुनाने को कहते है तब उन्होंने अपने दिन की दास्ताँ इस गाने के रूप में व्यक्त की है जिसे आज भी सुनकर हमारे अन्दर एक अजीब सी उर्जा का प्रवाह हो उठता है.

गानामंजीले अपनी जगह है रास्ते अपनी जगह
फिल्मशराबी(1984)
गायककिशोर कुमार
अभिनेता वर्गअमिताभ बच्चन, जाया प्रदा, प्राण, ओंम प्रकाश
संगीतबप्पी लाहिरी
गीतअनजान

4. ‘तेरे जैसा यार कहाँ’ याराना अमिताभ बच्चन किशोर कुमार

याराना(1981) का यह गाना आज भी अपनी दोस्ती के लिए लोगो द्वारा गाया जाता है जिसे सुनकर दोस्त भी भावुक हो जाते है गाने का एहसास मात्र से ही आँखों में अंशु टपकने लगते है गाने में दोस्ती को खुदा का सबसे बड़ा उपहार माना गया गया है और इस दुनिया में दोस्ती से बढ़कर कुछ भी नही है यही इस गाने का मकसद भी है

गानातेरे जैसा यार कहाँ
फिल्मयाराना(1981)
गायककिशोर कुमार
अभिनेता वर्गअमिताभ बच्चन, अमजद खान, नीतू सिंह, कादर खान एवं अन्य
संगीतराजेश रोशन
गीतअनजान

5. ‘जीना यहाँ मरना यहाँ’ मेरा नाम जोकर राज कपूर ऋषि कपूर

फिल्म मेरा नाम जोकर(1970) का यह गाना जो की एक जोकर द्वारा गाया जाता है सुनकर आज भी हम भावुकता में बह जाते है और जिसके आँखों में अंशु ना आ जाये उसने इस गाने को महसूस ही नही किया ऐसा माना जाता है इस गाने में राज कपूर अपनी पूरी जिंदगी का वर्णन इस गाने के माध्यम से करते है जिसमे उनके सामने बैठे उनकी पुरानी जिंदगी से जुडी महिलाओ के आँखों में भी अंशु आ जाते है जिन्होंने कभी उनसे प्यार किया होता है.

गानाजीना यहाँ मरना यहाँ
फिल्ममेरा नाम जोकर(1970)
गायकमुकेश
अभिनेता वर्गराज कपूर, सिमी गरेवाल, ऋषि कपूर, पद्मिनी, मनोज कुमार एवं अन्य
संगीतशंकर जयकिशन
गीतशैलेन्द्र और शैली शैलेन्द्र
Avatar of Priya Singh

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Join Telegram
iQOO Z6 Lite 5G Snapdragon 4 Gen 1 के साथ लांच Redmi 11 Prime a Budget 5G phone in India NASA’s Artemis-1 Rocket Launch JIO Phone 5G Launch